Amroha Shabnam Case: Shabnam की फांसी टालने पर अड़े A.P.Singh, देश से खत्म करना चाहते हैं यह सजा

Amroha Shabnam Case: Shabnam की फांसी टालने पर अड़े A.P.Singh, देश से खत्म करना चाहते हैं यह सजा

देश का सबसे चर्चित हत्याकांड जब एक लड़की ने अपने पूरे परिवार को जान से मार ड़ाला था उसमें एक मासूम 10 माह का बच्चा भी था। अपने प्रेम को पाने के लिए प्रेमी के साथ मिलकर शबनम ने यह खौफनाक कदम उठाया था। 2008 में हुई इस घटना ने पूरे देश को हिला दिया था। मारे गए पूरे परिवार में 7 लोग शामिल थे, जिंदा थी तो बस शबनम। लेकिन अभी हाल ही में कोर्ट ने शबनम को सजा-ए-मौत सुनाई है। तो वहीं शबनम के बेटे ने राष्ट्रपति से उसकी मां की मौत की सजा को माफ करने की गुहार लगाई है। तो वहीं अब इस केस में नया मौड़ आता दिख रहा है। दरअसल अब सुप्रीम कोर्ट के वरिष्‍ठ वकील एपी सिंह ने शबनम की सजा के खिलाफ पैरवी की है।

2 कातिल, 7 कत्लः जानिए उस रात की खौफनाक कहानी, जब शबनम बन गई थी शैतान -  Amroha Family Seven Murder Accused Shabnam Salim Jail Hanging Punishment  Waiting Police Crime - AajTak

निर्भया मामले में दोषियों की तरफ से पैरवी कर चुके सुप्रीम कोर्ट के वरिष्‍ठ वकील एपी सिंह ने अपने एक बयान में शबनम को फांसी न दिए जाने की वकालत की है। उनका कहना है कि वो भारत से फांसी की सजा को खत्‍म करने के लिए काम कर रहे हैं। इसके लिए वो अब तक जिन लोगों को फांसी की सजा दी जा चुकी हैं उनके आंकड़े जुटा रहे हैं। साथ ही उनके परिजनों से भी बात कर रहे हैं। उनका ये भी कहना है कि ये काफी लंबी प्रक्रिया है जिसमें कुछ समय और लग सकता है। उनके मुताबिक अमेरिका भी मौत की सजा को खत्‍म करने की तरफ बढ़ता दिखाई दे रहा है।

Shabnam Full Story: कौन है शबनम जिसे होने वाली है फांसी! प्यार को पाने के  लिए प्रेमी Saleem संग मिलकर किस खौफनाक वारदात को Shabnam ने दिया था अंजाम -  Shabnam story

हालांकि वहां पर हाल ही में एक महिला को जघन्यय अपराध का दोषी पाए जाने के बाद जहरीला इंजेक्‍शन देकर मौत की सजा दी गई थी। इस बीच उत्तर प्रदेश की रामपुर जेल में बंद शबनम की फांसी फिलहाल टलती दिखाई दे रही है। इसकी वजह राज्‍यपाल के पास दायर एक दया याचिका है जो शबनम के बेटे की तरफ से दायर की गई है। शबनम पर अपने ही परिवार के सात लोगों की निम्रम हत्‍या करने का आरोप साबित हुआ था। इसके बाद निचली अदालत से सुप्रीम कोर्ट तक उसको मिली फांसी की सजा को सही पाया गया। राष्‍ट्रपति ने भी उसकी दया याचिका को ठुकराकर उसकी सजा पर अंतिम मुहर लगा दी है।

अन्य