दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार, सिसोदिया ने यूपी-हरियाणा पर लगाए आरोप

दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार, सिसोदिया ने यूपी-हरियाणा पर लगाए आरोप

देशभर में फैले कोरोना ने चारों तरफ हाहाकार मचा रखा है, अस्पतालों से लेकर, श्मशान घाटों तक कहीं भी जगह नहीं है,ऐसे में कोरोना के साथ अब ऑक्सीजन की कमी से भी लोग अपनी जान गवां रहे है, इतना ही नहीं अपनों को बचाने के लिए लोग ऑक्सीजन के सिलेंडरों की चोरी तक कर रहे है.तो वहीं दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म होने लगी है।

manish sisodia health update : दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया की  हालत में सुधार, कोरोना और डेंगू दोनों से हैं संक्रमित - Navbharat Times

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि राजधानी के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन पूरी तरह खत्म हो गई है। सरोज, राठी, शांति मुकुंद, तीरथ राम अस्पताल, यूके अस्पताल, जीवन अस्पताल का कहना है कि हमारे यहां ऑक्सीजन खत्म हो गई है। हम जैसे-तैसे उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर देने की कोशिश कर रहे हैं।

Delhi LIVE: ऑक्सीजन की मारामारी, कई अस्पतालों में कुछ घंटों का स्टॉक,  केंद्र-राज्य में आर-पार - Delhi corona live updates oxygen issue arvind  kejriwal satyendra jain centre government ...

सिसोदिया ने कहा कि जब केंद्र सरकार ने दिल्ली का ऑक्सीजन का आवंटन बढ़ा दिया है तो हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सरकारें इस तरह का व्यवहार क्यों कर रही हैं, जैसे दिल्ली का उत्तर प्रदेश और हरियाणा से झगड़ा है। यह समय एक-दूसरे से लड़ने का नहीं बल्कि एकजुट होने का है।

अभी दिल्ली के कई अस्पताल गंभीर ऑक्सीजन संकट का सामना कर रहे हैं। कुछ में ऑक्सीजन पूरी तरह से खत्म हो गई है, मुझे सुबह से ही अस्पतालों से मैसेज और ईमेल मिल रहे हैं। हम किसी तरह उन्हें दूसरे अस्पतालों से रीक्रिएट करके सिलेंडर मुहैया करा रहे हैं, जिनका स्टॉक थोड़ा ज्यादा है।

सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन संकट के पीछे बड़ा कारण हरियाणा-यूपी द्वारा ऑक्सीजन के लिए ‘जंगल राज’ है। उनकी सरकारें, अधिकारी और पुलिस अपने ऑक्सीजन प्लांटों से दिल्ली में ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं करने दे रहे हैं। हमारे अधिकारियों ने उनके साथ बात की, मैंने भारत सरकार से भी बात करने की कोशिश की, लेकिन चीजें जमीन पर नहीं बदल रही हैं। 

बता दें कि, दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार रात को केंद्र को आदेश दिया था कि वह तुरंत ऑक्सीजन की उन अस्पतालों को आपूर्ति करे, जहां उसकी जरूरत है और जहां पर कोविड-19 के उन मरीजों का इलाज हो रहा है, जिनकी हालत गंभीर है। अदालत ने टिप्पणी की कि ऐसा लगता है कि राज्य के लिए इंसानों की जान की कोई कीमत नहीं है। इस दौरान केंद्र सरकार का पक्ष रख रहे सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को आश्वस्त किया था कि वह दिल्ली को आवंटित 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की व्यवस्था करेगी और यह बिना किसी बाधा के दिल्ली पहुंचेगी। हालांकि, कई निजी अस्पतालों ने शिकायत की कि उन तक कोई मदद नहीं पहुंची है।

अन्य