देश के प्रधानमंत्री  ने  राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के 75वी वर्षगांठ के मौके पर 75  रुपये का स्मृति सिक्का जारी किया

देश के प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के 75वी वर्षगांठ के मौके पर 75 रुपये का स्मृति सिक्का जारी किया

Spread to all

By Poonam Rajpoot

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एफएओ यानी राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के 75वी वर्षगांठ के मौके पर 75 रुपये का स्मृति सिक्का जारी किया है । इसके अलावा उन्होंने हाल ही में विकसित की गई आठ फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित कर दिया।

क्या है एफएओ ,खाद्य और कृषि संगठन (FAO)

संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ तंत्र की सबसे बड़ी विशेषज्ञता प्राप्त एजेंसियों में से एक है जिसकी स्‍थापना वर्ष 1945 में कृषि उत्‍पादकता और ग्रामीण आबादी के जीवन निर्वाह की स्‍थिति में सुधार करते हुए पोषण तथा जीवन स्‍तर को उन्‍नत बनाने के उद्देश्य के साथ की गई थी।

हाल ही में देश के पीएम मोदी जी नें वन नेशन वन राशन कार्ड का ऐलान किया थी ताकि देश की आर्थिक स्थिती फिर से रिकवर कर सके। हाल ही में 3 बड़े कृषि सुधार हुए हैं, वो देश के एग्रीकल्चर क्षेत्र के सुधार और किसानों की आय बढ़ाने में बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है। बीते वर्षों में देश में उन्नत बीजों की रिसर्च और डेवलपमेंट में भी बहुत प्रसंशनीय काम हुआ है। 2014 से पहले जहां इस प्रकार की सिर्फ एक वैरायटी किसानों तक पहुंची। वहीं आज अलग-अलग फसलों की 70 बायोफोर्टिफाइड वैरायटीज किसानों को उपलब्ध हैं।

लेकिन अभी भी कृषि इन कानूनों से खुश से नहीं इन बिलों पर विवाद आज भी ज़ारी है। एफएओं के जरिए मोदी जी कुपोषण के खिलाफ अभियान को .बल लगाने की कोशिश कर रहे है। ये अभियान भारत और एफएओ के बीच बढ़ते तालमेल को और गति देगा। छोटे बड़े किसान दोनों को ही इन अभियानों के जरिए लाभ मिलेगा। इसके लिए फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशंस यानि एफपीओ का एक बड़ा नेटवर्क देश में तैयार किया जा रहा है। भारत में अनाज की बर्बादी हमेशा से बहुत बड़ी समस्या रही है। अब जब आवश्यक वस्तु अधिनियम में संशोधन किया गया है, इससे स्थितियां बदलेंगी।


Spread to all
Live Updates COVID-19 CASES