Trending

राष्ट्रपति चुनाव : कौन होगा इस बार का उम्मीदवार ?

सौरभ भाटी : हमारे देश में 2022 राष्ट्रपति चुनाव की चर्चा अब धीरे-धीरे बढ़ने लगी है। जुलाई 2022 तक भारत को एक नया राष्ट्रपति मिल जाएगा, मौजूदा राष्ट्रपति ‘रामनाथ कोविंद’ का कार्यकाल जुलाई में खत्म हो रहा है और देश अपने 17वें राष्ट्रपति का इंतज़ार कर रहा है।

परंतु अभी तक यह साफ नही हुआ है कि कौन होगा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार ? सियासी जगत से तो कई नाम मीडिया में  सामने आ रहे हैं, बिहार के मौजूदा मुख्यमंत्री ‘नीतीश कुमार’ , महाराष्ट्र से एनसीपी के नेता शरद पवार के नाम की भी चर्चा जोरों पर है,पंजाब के पुर्व मुख्यमंत्री ‘अमरिंदर सिंह’ हो या छत्तीसगढ़ की राज्यपाल ‘अनुसुइया उइके’ ऐसे अनेक नाम इस वक्त राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर सामने आ रहे हैं
 
जनता की नज़र इस बार एनडीए की तरफ है, की कौन होगा इस गठबंधन का उम्मीदवार, बीजेपी एनडीए गठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी है। उम्मीदवार का चयन बीजेपी 2024 के चुनाव को ध्यान में रख कर करेगी। तमाम अटकलों और नामों के बीच हो सकता है बीजेपी किसी महिला उम्मीदवार को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बना सकती है ,राष्ट्रपति चुनाव को 2024 के लोकसभा चुनाव से जोड़ कर देखा जा रहा है देश की आधी आबादी महिलाओं की है और महिला वोट बैंक को अपनी तरफ करने के लिए बेजीपी यह दांव खेल दे , संभव है किसी पिछड़े वर्ग से कोई उम्मीदवार का नाम भी सामने आजाए। वोटों के लिहाज़ से देखा जाए तो बीजेपी के पास भी बहुमत तक पहुँचने लायक वोट नहीं है बीजेपी जोरों से अपने आप को इस चुनाव में मज़बूत करने की कोशिश कर रहीं है।

विपक्ष भी चुनाव के लिए अपना उम्मीदवार खोजने में लगा हुआ है। इस वक्त देखा जाए तो विपक्षी दलों के मुक़ाबले बीजेपी गठबंधन की स्थिति कई गुना बेहतर है लेकिन विपक्ष भी कुछ ज्यादा पीछे नहीं है यूपीए भी पूरे ज़ोर के साथ अपना संयुक्त उम्मीदवार खड़ा करने की कोशिश कर रहा है जिसमें ‘कांग्रेस’ समेत ‘समाजवादी पार्टी’ , ‘आम आदमी पार्टी’ और ममता बनर्जी की ‘सर्वभारतीय तृणमूल कांग्रेस’ ऐसे अन्य कई बड़े दल भी यूपीए गठबंधन में जुड़ सकते है। अगर सारा विरोधी दल एक साथ हो जाता है तो एनडीए की मुशिकलें बढ़ सकती है।

अब देखना यह होगा कौनसा गठबंधन किस उम्मीदवार को खड़ा करता है और अपने उम्मीदवार को राष्ट्रपति की गद्दी तक पहुँचा पाता है या नहीं ,पूर्ण रूप से तस्वीर जुलाई 2022 के अंत तक साफ हो जाएगी और भारत को अपना नया राष्ट्रपति भी मिल जाएगा।

Back to top button